Ayodhya News: 140 मिलें तैयार करेंगी पोषणयुक्त चावल, काम शुरू

मंडल में पहली बार पोषणयुक्त चावल बनाने का काम शुरू हुआ है। मंडल की 140 मिलों में धान कुटाई के साथ ही पहली बार ये कवायद होगी। कई मिलों ने उत्पादन शुरू कर दिया है और भारतीय खाद्य निगम को इस चावल की पहली खेप भेज दी गई है।


मंडल में राइसमिलों से पोषणयुक्त चावल तैयार करवाने के लिए दो महीने से तैयारी चल रही थी। लगभग दो सौ से ज्यादा मिलों में इस चावल को तैयार करने के लिए मशीनें लगाई गईं। साथ ही पोषणयुक्त चावल तैयार किए जाने में प्रयोग किए जाने वाले कर्नेल की खरीदारी तय कर दी गई थी। एक नवंबर से मंडल में धान की खरीद शुरू की गई। मिलों को धान भेजने के साथ ही पोषणयुक्त चावल बनाए जाने के निर्देश दिए गए थे।


विभाग के मुताबिक मंडल के अयोध्या की 23, अंबेडकरनगर की 31, सुल्तानपुर में 13, बाराबंकी में 34 और अमेठी में 39 मिलों से यह चावल फिलहाल तैयार किया जाना है।
मंडल के सभी जिलों में पोषणयुक्त चावल तैयार किया जा रहा है। एक दिसंबर तक लगभग ढाई हजार एमटी पोषणयुक्त चावल भारतीय खाद्य निगम में भंडारण के लिए भेजा गया है। अकेले अमेठी ऐसा जिला रहा जहां से चावल भंडारण के लिए नहीं भेजा गया था लेकिन इसे तैयार किया जा रहा है।

विभाग के मुताबिक मंडल के सभी पांच जिलों अयोध्या, अंबेडकरनगर, सुल्तानपुर, बाराबंकी, अमेठी में धान खरीद का लक्ष्य 6,77,000 एमटी है। इसके सापेक्ष 4,53,590 एमटी पोषणयुक्त चावल तैयार किया जाना है। एक दिसंबर तक भारतीय खाद्य निगम को लगभग ढाई हजार एमटी चावल भेजा जा चुका है।
क्या होता है पोषणयुक्त चावल ?


-यह ऐसा चावल होता है जिसमें स्वास्थ्य की दृष्टि से सूक्ष्म पोष्क तत्व आयरन, विटामिन बी-12 के साथ फोलिक एसिड मौजूद रहता है। इससे कुपोषण दूर करने में मदद मिलती है। ये चावल एमडीएम और बाल विकास विभाग में भी भेजा जाएगा। भविष्य में राशन में इसे शामिल किए जाने की तैयारी है।


-मंडल में पोषणयुक्त चावल बनाने का काम शुरू कर दिया गया है। मिलों से उत्पादन बढ़ने के साथ ही इसमें बढ़ोत्तरी की जाएगी। भविष्य में अभी पोषणयुक्त चावल बनाने वाली मिलों की संख्या बढ़ाने का प्रयास है।
– सुरेंद्र नाथ पांडेय, संभागीय खाद्य नियंत्रक

This article has been republished from amarujala.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

×